शुगर होने के कारण ~ harbalist.com ".

शुगर होने के कारण

 शुगर लेवल (sugar laval) 


sugar laval 

किसी भी स्वस्थ व्यक्ति का नार्मल शुगर लेवल (sugar laval) 70 से110 होता है | इससे अधिक होने पर नीचे दिए गए निम्न लक्षण दिखाई देते है | इसका उपचार समय से कराये नहीं तो ये बहुत गंभीर बीमारी का रूप ले लेती है |इसको कंट्रोल करने में सालो लग जाते है लकिन ये आसानी से ठीक नहीं होती है |

शुगर(sugar) के लक्षण 


आज हम आपको शुगर होने के कारण के बारे में बताने जा रहे हैं | इसे हिंदी में मधुमेह और इंग्लिश में डायबिटीज के नाम से जाना जाता है | शुगर रोगी के रक्त में शर्करा के असंतुलन के कारण यह रोग होता है |
इससे अधिक होने पर कुछ लक्षण दिखाई देते है जो इस प्रकार है | 

किसी प्रकार की चोट का लंबे समय तक ठीक ना होना |

हमेशा थकान बनी रहना|

आँखों से धुंदला दिखाई देना |

किसी काम को करने में रूचि न होना |

चिड़चिड़ापन होना |

बार-बार पेशाब जाना |

भूख अधिक लगना |

प्यास अधिक लगना |

शुगर के लिए घरेलू उपचार  


  • शुगर की मात्रा को कंट्रोल करने के लिए दो कली लहसुन सुबह खाली पेट खाने से शुगर कंट्रोल हो जाता है | 



  • शुगर को कंट्रोल करने के लिए सुबह खाली पेट एक चम्मच दालचीनी का पाउडर का सेवन करें | इससे शुगर लेवल कंट्रोल रहता है |
      



  • एक चम्मच मेथी के दाने को एक गिलास पानी में भिगोकर शाम को रख दें और सुबह उठकर इसका पानी पी लें और ऊपर से मेथी के दानों को चबा चबा कर खाएं इससे शुगर लेवल कंट्रोल रहता है |    



  • सेब का सिरका एक गिलास पानी में दो चम्मच सेब का सिरका डालकर सुबह-शाम खाना खाने से एक घंटा पहले इसका सेवन करें | इससे शुगर लेवल कंट्रोल लेता है | 




  •  लहसुन की दो कली को सुबह खाली पेट चबाकर एक गिलास ऊपर से पानी पी लें इससे भी रक्त में शुगर का लेवल कंट्रोल रहता है | 



  • सदाबहार के 4 पत्ते खाली पेट सुबह चबा चबा कर खाने से शुगर लेवल कंट्रोल लेता है |  



  • एक कप करेले का जूस सुबह-शाम लेने से भी शुगर कंट्रोल रहता है |



  • शुगर के रोगी को बार बार पेशाब जाने के कारण प्यास अधिक लगती है इससे बचने के लिए एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़ कर पी लेने से बार-बार प्यास नहीं लगती है |
     

मधुमेह के उपचार

मधुमेह के उपचार के रोगी  सेव नारंगी  पपीता खा सकते हैं | क्योंकि इसमें प्राकृतिक शर्करा की कम मात्रा होती है |  मधुमेह के रोगियों को प्रोटीन की मात्रा अधिक लेनी चाहिए क्योंकि बार-बार पेशाब करने के कारण प्रोटीन शरीर के बाहर निकल जाता है | इसलिए प्रोटीन वाला खाना खाना चाहिए | 

  • मधुमेह के रोगी को हल्का खाना खाने की सलाह दी जाती है | जिसमें खीरा बहुत महत्वपूर्ण है | इसकी सलाद बनाकर खाएं या जूस निकालकर पी सकते हैं | गाजर पालक का जूस पी सकते हैं या फिर कच्चा भी खा सकते हैं | यह पचने में बहुत आसान होती है |  



  • मधुमेह को कंट्रोल करने में शलजम भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है | इसका सेवन सब्जी या सलाद के रूप में किया जा सकता है | 

  • मधुमेह के उपचार में आक के पत्ते को पैरो में बांधने से बहुत फायदा होता है | 

  • मधुमेह के उपचार में आंवले का रस आधा कप सुबह खाली पेट पीने से बहुत फायदा मिलता है | 

  • सुबह जल्दी उठकर टहलने जरूर जाये | 

sugar treatment 



sugar treatment 

  • शुगर के रोगियों के लिए जामुन अमृत के समान है |  इसके फल,गुठली,छाल,रस शुगर के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है | जामुन के मौसम में इसका सेवन अधिक करना चाहिए और इसकी गुठलियों को संभाल कर रख लेना चाहिए और इनका चूर्ण बनाकर दिन में 3 बार पानी के साथ सेवन करना चाहिए |  इसके सेवन से मूत्र में शुगर आने की समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा मिलता है | 



  • यह शुगर के रोगियों के लिए रामबाण औषधि है | 100 ग्राम मेथी दाना,100 ग्राम तेजपत्ता,150 ग्राम जामुन की गुठली 250 ग्राम बेलपत्र के पत्ते सभी को धूप में अच्छी प्रकार से सुखा लें और पीसकर पाउडर बना लें एक-एक चम्मच सुबह शाम शुगर के रोगी को सेवन करने से शुगर लेवल हमेशा के लिए कंट्रोल रहता है | 


शुगर में क्या नहीं खाना चाहिए?


शुगर के रोगी को चीनी से बने सभी पदार्थों को छोड़ देना चाहिए जैसे पेप्सी, मिठाई ,केले, अंगूर, आम,चाय  लस्सी, जूस,चॉकलेट,ज्यादा तेल मसाले,आलू ,चावल नहीं खाना चाहिए |




Previous
Next Post »